हम तो रह गये पांच जमाती

क्या बतलाएं आज अपनी पीड़ा, टीचर मार-मार रही पढ़ाती

घर आने पर मां कहती गृह कार्य दिखला, बेलन मार लिखाती

पढ़ ले, पढ़ ले,कोई कहता टीचर बन ले, कोई कहता डाक्टर

नहीं ककहरा समझ में आया, हम तो रह गये पांच जमाती

कुहासे में उलझी जि़न्दगी

कभी-कभी

छोटी-छोटी रोशनी भी

मन आलोकित कर जाती है।

कुहासे में उलझी जि़न्दगी

एक बेहिसाब पटरी पर

दौड़ती चली जाती है।

राहों में आती हैं

कितनी ही रोशनियां

कितने ठहराव

कुछ नये, कुछ पुराने,

जाने-अनजाने पड़ाव

कभी कोई अनायास बन्द कर देता है

और कभी उन्मुक्तु हो जाते हैं सब द्वार

बस मन आश्‍वस्‍त है

कि जो भी हो

देर-सवेर

अपने ठिकाने पहुंच ही जाती है।

 

इक फूल-सा ख्वाबों में

जब भी
उनसे मिलने को मन करता है

इक फूल-सा ख्वाबों में
खिलता नज़र आता है।

पतझड़ में भी
बहार की आस जगती है
आकाश गंगा में
फूलों का झरना नज़र आता है।

फूल तो खिले नहीं
पर जीवन-मकरन्द का
सौन्दर्य नज़र आता है।

तितलियों की छोटी-छोटी उड़ान में
भावों का सागर
चांद पर टहलता नज़र आता है।

चिड़िया की चहक में
न जाने कितने गीत बजते हैं
उनके मिलन की आस में
मन गीत गुनगुनाता नज़र आता है।

सांझ ढले
जब मन स्मृतियों के साये में ढलता है
तब लुक-छुप करती रंगीनियों में
मन बहकता नज़र आता है।

जब-जब तेरी स्मृतियों से
बच निकलने की कोशिश की
मन बहकता-सा नज़र आता है।

फूल खिलखिलाए

बारिश के बाद धूप निखरी
आंसुओं के बाद मुस्कान बिखरी
बदलते मौसम के एहसास हैं ये
फूल खिलखिलाए, महक बिखरी

 

कितनी मनोहारी है जि़न्‍दगी

प्रतिदित प्रात नये रंग-रूप में खिलती है जि़न्‍दगी

हरी-भरी वाटिका-सी देखो रोज़ महकती है जि़न्‍दगी

कभी फूल खिेले, कभी फूल झरे, रंगों से धरा सजी

ज़रा आंख खोलकर देख, कितनी मनोहारी है जि़न्‍दगी

बेकरार दिल
दिल हो रहा बड़ा बेकरार

बारिश हो रही मूसलाधार

भीग लें जी भरकर आज

न रोक पाये हमें तेज़ बौछार

चंदा को जब देखो मनमर्ज़ी करता है

चंदा को मैंने थाम लिया, जब देखो अपनी मनमर्ज़ी करता है

रोज़ रूप बदलता अपने, जब देखो इधर-उधर घूमा करता है

जब मन हो गायब हो जाता है, कभी पूरा, कभी आधा भी

यूं तो दिन में भी आ जायेगा, ईद-चौथ पर तरसाया करता है

 

नेह की डोर

कुछ बन्धन

विश्वास के होते हैं

कुछ अपनेपन के

और कुछ एहसासों के।

एक नेह की डोर

बंधी रहती है इनमें

जिसका

ओर-छोर नहीं होता

गांठें भी नहीं होतीं

बस

अदृश्य भावों से जुड़ी

मन में बसीं

बेनाम

बेमिसाल

बेशकीमती।

  

जीवन की गति एक  चक्रव्यूह

जीवन की गति

जब किसी चक्रव्यूह में

अटकती है

तभी

अपने-पराये का एहसास होता है।

रक्त-सम्बन्ध सब गौण हो जाते हैं।

पता भी नहीं लगता

कौन पीठ में खंजर भोंक गया ,

और किस-किस ने सामने से

घेर लिया।

व्यूह और चक्रव्यूह 

के बीच दौड़ती ज़िन्दगी,

अधूरे प्रश्र और अधूरे उत्तर के बीच

धंसकर रह जाती है।

अधसुनी, अनसुनी कहानियां

लौट-लौटकर सचेत करती हैं,

किन्तु हम अपनी रौ में

चेतावनी समझ ही नहीं पाते,

और  अपनी आेर से

एक अधबुनी कहानी छोड़कर

चले जाते हैं।

 

 

 

बहके हैं रंग

रंगों की आहट से खिली खिली है जिन्दगी

अपनों की चाहत से मिली मिली है जिन्दगी

बहके हैं रंग, चहके हैं रंग, महके हैं रंग,

 रंगों की रंगीनियों से हंसी हंसी है जिन्दगी

कभी-कभी वजह-बेवजह क्रोध करना भी ज़रूरी है

विनम्रता से दुनिया अब नहीं चलती, असहिष्णुता भी ज़रूरी है।

समझौतों से बात अब नहीं बनती, अस्त्र उठाना भी ज़रूरी है।

ऐसा अब होता है जब हम रोते हैं जग हंसता है ताने कसता है

सरलता छोड़, कभी-कभी वजह-बेवजह क्रोध करना भी ज़रूरी है

इंसान की फ़ितरत

देखो रोशनी से कतराने लगे हैं हम

देखो बत्तियां बुझाने में लगे हैं हम

जलती तीली देखकर भ्रमित न होना

देखो सीढ़ियां गिराने में लगे हैं हम

खुले हैं वातायन

इन गगनचुम्‍बी भवनों में भी

भाव रहते हैं

कुछ सागर से गहरे

कुछ आकाश को छूते

परस्‍पर सधे रहते हैं।

यहां भी उन्‍मुक्‍त हैं द्वार,

खुले हैं वातायन, घूमती हैं हवाएं

यहां भी गूंजती हैं किलकारियां ,

हंसता है सावन

बादल उमड़ते-घुमड़ते हैं

हां, यह हो सकता है

कुछ कम या ज्‍़यादा होता हो,

पर समय की मांग है यह सब

कितनी भी अवहेलना कर लें

किन्‍तु हम मन ही मन

यही चाहते हैं

फिर भी

पता नहीं क्‍यों हम

बस यूं ही डरे-डरे रहते हैं।

पुरानी रचनाओं का करें पिष्ट-पेषण

पुरानी रचनाओं का कब तक करें पिष्ट-पेषण सुहाता नहीं

रोज़ नया क्या लिखें हमें तो समझ कुछ अब आता नहीं

कवियों की नित-नयी रचनाएं पढ़-पढ़कर मन कुढ़ता है

लेखनी न चले तो अपने पर ही दया का भाव भाता नहीं

मन चंचल करती तन्हाईयां

जीवन की धार में

कुछ चमकते पल हैं

कुछ झिलमिलाती रोशनियां

कुछ अवलम्ब हैं

तो कुछ

एकाकीपन की झलकियां

स्मृतियों को संजोये

मन लेता अंगड़ाईयां

मन को विह्वल करती

बहती हैं पुरवाईयां

कुछ ठिठके-ठिठके से पल हैं

कुछ मन चंचल करती तन्हाईयां

 

 

 

चिन्ता में पड़ी हूँ मैं

सब्ज़ी वाला आया न, सुबह से द्वार खड़ी हूँ मैं

आते होंगे भोजन के लिए, चिन्ता में पड़ी हूँ मैं

स्कूटी मेरी पंक्चर खड़ी, मण्डी तक जाऊँ कैसे

काम में हाथ बंटाया करो कितनी बार लड़ी हूँ मैं

सीधी राहों की तलाश में जीवन

अपने दायरे आप खींच

न तकलीफ़ों से आंखें मींच

.

हाथों की लकीरें

अजब-सी

आड़ी-तिरछी होती हैं,

जीवन की राहें भी

शायद इसीलिए

इतनी घुमावदार होती हैं।

किन्तु इन

घुमावदार राहों

पर खिंची

आड़ी-तिरछी लकीरें

गोल दायरों में घुमाती रहती हैं

जीवन भर

और हम

इन राहों के आड़े-तिरछेपन,

और गोल दायरों के बीच

अपने लिए

सीधी राहों की तलाश में

घूमते रहते हैं जीवन भर।

 

सुनो कृष्ण

सुनो कृष्ण !

मैं नहीं चाहती

किसी द्रौपदी को

तुम्हें पुकारना पड़े।

मैं नहीं चाहती

किसी युद्ध का तुम्हें

मध्यस्थ बनना पड़े।

नहीं चाहती मैं

किसी ऐसे युद्ध के

साक्षी बनो तुम

जहाँ तुम्हें

शस्त्र त्याग कर

दर्शक बनना पड़े।

नहीं चाहती मैं

तुम युद्ध भी न करो

किन्तु संचालक तुम ही बनो।

मैं नहीं चाहती

तुम ऐसे दूत बनो

जहाँ तुम

पहले से ही जानते हो

कि निर्णय नहीं होगा।

मैं नहीं चाहती

गीता का

वह उपदेश देना पड़े तुम्हें

जिसे इस जगत में

कोई नहीं समझता, सुनता,

पालन करता।

मैं नहीं चाहती

कि तुम इतना गहन ज्ञान दो

और यह दुनिया

फिर भी दूध-दहीं-ग्वाल-बाल

गैया-मैया-लाड़-लड़ैया में उलझी रहे,

राधा का सौन्दर्य

तुम्हारी वंशी, लालन-पालन

और तुम्हारी ठुमक-ठुमैया

के अतिरिक्त उन्हें कुछ स्मरण ही न रहे।

तुम्हारा चक्र, तुम्हारी शंख-ध्वनि

कुछ भी स्मरण न करें,

 

न करें स्मरण

युद्धों का उद्घोष

समझौतों का प्रयास

अपने-पराये की पहचान की समझ,

न समझें तुम्हारी निर्णय-क्षमता

अपराधियों को दण्डित करने की नीति।

झुकने और समझौतों की

क्या सीमा-रेखा होती है

समझ ही न सकें।

मैं नहीं चाहती

कि तुम्हारे नाम के बहाने

उत्सवों-समारोहों में

इतना खो जायें

तुम पर इतना निर्भर हो जायें

कि तनिक-से कष्ट में

तुम्हें पुकारते रहें

कर्म न करें,

प्रयास न करें,

अभ्यास न करें।

तुम्हारे नाम का जाप करते-करते

तुम्हें ही भूल जायें,

बस यही नहीं चाहती मैं

हे कृष्ण !

 

 

मुझे तो हर औरत दिखाई देती है


तुम सीता हो या सावित्री
द्रौपदी हो या कुंती
अहिल्या हो या राधा-रूक्मिणी
मैं अक्सर पहचान ही नहीं पाती।
सम्भव है होलिका, अहिल्या,
गांधारी, कुंती, उर्मिला,
अम्बा-अम्बालिका हो।
या नीता, गीता
सुशीला, रमा, शमा कोई भी हो।
और भी बहुत से नाम
स्मरण आ रहे हैं मुझे
किन्तु मैं स्वयं भी
किसी असमंजस में नहीं
पड़ना चाहती,
और न ही चाहती हूं
कि तुम सोचने लगो,
कि इसकी तो बातें
सदैव ही अटपटी-होती हैं
उलझी-उलझी।

तुम्हें क्या लगता है
कौन है यह?
सती-सावित्री?

मुझे तो हर औरत
दिखाई देती है इसके भीतर
सदैव पति के लिए
दुआएं मांगती,
यमराज के आगे सिर झुकाकर
अपनी जीवन देकर ।

अंधेरों से जूझता है मन

गगन की आस हो या चांद की,

धरा की नज़दीकियां छूटती नहीं।

मन उड़ता पखेरु-सा,

डालियों पर झूमता,

संजोता ख्वाब कोई।

अंधेरों से जूझता है मन,

संजोता है रोशनियां,

दूरियां कभी सिमटती नहीं,

आस कभी मिटती नहीं।

चांद है या ख्वाब कोई।

रोशनी है आस कोई।

 

जीवन है मेरा राहें हैं मेरी सपने हैं अपने हैं

साहस है मेरा, इच्छा है मेरी, पर क्यों लोग हस्तक्षेप करने चले आते हैं

जीवन है मेरा, राहें हैं मेरी, पर क्यों लोग “कंधा” देने चले आते हैं

अपने हैं, सपने हैं, कुछ जुड़ते हैं बनते हैं, कुछ मिटते हैं, तुमको क्या

जीती हूं अपनी शर्तों पर, पर पता नहीं क्यों लोग आग लगाने चले आते हैं

क्या होगा वक्त के उस पार

वक्त के इस पार ज़िन्दगी है,

खुशियां हैं वक्त के इस पार।

दुख-सुख हैं, आंसू, हंसी है,

आवागमन है वक्त के इस पार।

कल किसने देखा है,

कौन जाने क्या होगा,

क्यों सोच में डूबे,

आज को जी लेते हैं,

क्यों डरें,

क्या होगा वक्त के उस पार।

 

हमारी राहें ये संवारते हैं

यह उन लोगों का

स्वच्छता अभियान है

जो नहीं जानते

कि राजनीति क्या है

क्या है नारे

कहां हैं पोस्टर

जहां उनकी तस्वीर नहीं छपती

छपती है उन लोगों की छवि

जिनकी

छवि ही नहीं होती

कुछ सफ़ेदपोश

साफ़ सड़कों पर

साफ़ झाड़ू लगाते देखे जाते रहे

और ये लोग उनका मैला ढोते रहे।

प्रकृति भी इनकी परीक्षा लेती है,

तरू अरू पल्लव झरते हैं

एक नये की आस में

हम आगे बढ़ते हैं

हमारी राहें ये

संवारते हैं

और हम इन्हीं को नकारते हैं।