कहते हैं कोई ऊपरवाला है

कहते हैं कोई ऊपरवाला है, सब कुछ वो ही तो दिया करता है

पर हमने देखा है, जब चाहे सब कुछ ले भी तो लिया करता है

लोग मांगते हाथ जोड़-जोड़कर, हरदम गिड़गिड़ाया करते हैं

पर देने की बारी सबसे ज़्यादा टाल-मटोल वही किया करता है

अनछुए शब्द

 कुछ भाव

चेहरों पर लिखे जाते हैं

और कुछ को शब्द दिये जाते हैं

शब्द कभी अनछुए

एहसास दे जाते हैं ,

कभी बस

शब्द बनकर रह जाते हैं।

किन्तु चेहरे चाहकर भी

झूठ नहीं बोल पाते।

चेहरों पर लिखे भाव

कभी कभी

एक पूरा इतिहास रच डालते हैं।

और यही

भावों का स्पर्श

जीवन में इन्द्र्धनुषी रंग भर देता है।

 

आई आंधी टूटे पल्लव पल भर में सब अनजाने

जीवन बीत गया बुनने में रिश्तों के ताने बाने।
दिल बहला था सबके सब हैं अपने जाने पहचाने।
पलट गए कब सारे पन्ने और मिट गए सारे लेख 
आई आंधी, टूटे पल्लव,पल भर में सब अनजाने !!

जब मूक रहे तब मूर्ख कहलाये

जब मूक रहे तब मूर्ख कहलाये

बोले तो हम बड़बोले बन जायें

यूं ही क्यों चिन्तन करता रे मन !

जिसको जो कहना है कहते जायें

चिड़िया से पूछा मैंने

चिड़िया रानी क्या-क्या खाती

राशन-पानी कहाँ से लाती

मुझको तो कुछ न बतलाती

थाली-कटोरी कहाँ से पाती

चोंच में तिनका लेकर घूमे

कहाँ बनाया इसने घर

इसके घर में कितने मैंम्बर

इधर-उधर फुदकती रहती

डाली-डाली घूम रही

फूल-फूल को छू रही

मैं इसके पीछे भागूं

कभी नीचे आती

कभी ऊपर जाती

मेरे हाथ कभी न आती।

बलिदान, त्याग, समर्पण की बात

बलिदान, त्याग, समर्पण की बात  बहुत करते हैं, बस सैनिकों के लिए

अपने पर दायित्व आता है जब, रास्ते बहुत हैं हमारे पास बचने के लिए

बस दूसरों से अपेक्षाएं करें और आप चाहिए हमें चैन की नींद हर पल

सीमा पर वे ठहरे हैं, हम भी सजग रहें सदा, कर्त्तव्य निभाने के लिए

 

कैसे जीते-जी अमर होते है

सरकार से सीखो कुछ, पांच साल कैसे सोते हैं

सरकार से सीखो कुछ, झूठे वादे कैसे होते हैं

हमारी ज़िन्दगी कोई पांच साला सरकार नहीं है

फिर भी सरकार से सीखो कैसे जीते-जी अमर होते है।

कितना मुश्किल होता है

कितना मुश्किल होता है

जब रोटी गोल न पकती है

दूध उफ़नकर बहता है

सब बिखरा-बिखरा रहता है।

 

तब बच्चा दिनभर रोता है

न खाता है न सोता है

मन उखड़ा-उखडा़ रहता है।

 

कितना मुश्किल होता है

जब पैसा पास न होता है

रोज़ नये तकाज़े सुनता

मन सहमा-सहमा रहता है।

 

तब आंखों में रातें कटती हैं

पल-भर काम न होता है

मन हारा-हारा रहता है।

 

कितना मुश्किल होता है,

जब वादा मिलने का करते हैं

पर कह देते हैं भूल गये,

मन तनहा-तनहा रहता है।

 

तब तपता है सावन में जेठ,

आंखों में सागर लहराता है

मन भीगा-भीगा रहता है ।

 

कितना मुश्किल होता है

जब बिजली गुल हो जाती है

रात अंधेरी घबराती है

मन डरा-डरा-सा रहता है।

 

तब तारे टिमटिम करते हैं

चांदी-सी रात चमकती है

मन हरषा-हरषा रहता है।

मधुर-मधुर पल

 

प्रकृति अपने मन से

एक मुस्‍कान देती है।

कुछ रंग,

कुछ आकार देती है।

प्‍यार की आहट

और अपनेपन की छांव देती है।

कलियां

नवजीवन की आहट देती हैं।

खिलते हैं फूल

जीवन का आसार देती हैं।

जब गिरती हैं पत्तियां

रक्‍तवर्ण

मन में एक चाहत का भास देती हैं।

समेट लेती हूं मुट्ठी में

मधुर-मधुर पलों का आभास देती हैं।

 

मन की गुलामी से बड़ी कोई सफ़लता नहीं

 

ऐसा अक्सर क्यों होता है

कि हम

अपनी इच्छाओं,

आकांक्षाओं का

मान नहीं करते

और,

औरों के चेहरे निरखते हैं

कि उन्हें हमसे क्या चाहिए।

.

मेरी इच्छाओं का सागर

अपार है।

अनन्त हैं उसमें लहरें,

किलोल करती हैं

ज्वार-भाटा उठता है,

तट से टकरा-टकराकर

रोष प्रकट करती हैं,

सारी सीमाएं तोड़कर

पूर्णता की आकांक्षा लिए

बार-बार बढ़ती हैं

उठती हैं, गिरती हैं

फिर आगे बढ़ती हैं।

.

अपने मन के गुलाम नहीं बनेंगे

तो पूर्णता की आकांक्षा पूरी कैसे होगी ?

.

अपने मन की गुलामी से बड़ी

कोई सफ़लता नहीं जीवन में।

 

चलो, आज बेभाव अपनापन बांटते हैं

किसी की प्यास बुझा सकें तो क्या बात है।

किसी को बस यूं ही अपना बना सकें तो क्या बात है।

जब रह रह कर मन उदास होता है,

तब बिना वजह खिलखिला सकें तो क्या बात है।

चलो आज उड़ती चिड़िया के पंख गिने,

जो काम कोई न कर सकता हो,

वही आज कर लें तो क्या बात है।

चलो, आज बेभाव अपनापन बांटते हैं,

किसी अपने को सच में अपना बना सकें तो क्या बात है।

शब्दों से जलाने वाले

आग लगाने वाले यहां बहुत हैं

बिना आग सुलगाने वाले बहुत हैं

बुझाने की बात तो करना ही मत

शब्दों से जलाने वाले यहां बहुत हैं

कहां समझ पाते हैं हम

आंखें बोलती हैं

कहां पढ़ पाते हैं हम

कुछ किस्से  खोलती हैं

कहां समझ पाते हैं हम

किसी की मानवता जागी

किसी की ममता उठ बैठी

पल भर के लिए

मन हुआ द्रवित

भूख से बिलखते बच्चे

बेसहारा अनाथ

चल आज इनको रोटी डालें

दो कपड़े पुराने साथ।

फिर भूल गये हम

इनका कोई सपना होगा

या इनका कोई अपना होगा,

कहां रहे, क्या कह रहे

क्यों ऐसे हाल में है

हमारी एक पीढ़ी

कूड़े-कचरे में बचपन बिखरा है

किस पर डालें दोष

किस पर जड़ दें आरोप

इस चर्चा में दिन बीत गया !!

सांझ हुई

अपनी आंखों के सपने जागे

मित्रों की महफ़िल जमी

कुछ गीत बजे, कुछ जाम भरे

सौ-सौ पकवान सजे

जूठन से पंडाल भरा

अनायास मन भर आया

दया-भाव मन पर छाया

उन आंखों का सपना भागा आया

जूठन के ढेर बनाये

उन आंखों में सपने जगाये

भर-भर उनको खूब खिलाये

एक सुन्दर-सा चित्र बनाया

फे़सबुक पर खूब सजाया

चर्चा का माहौल बनाया

अगले चुनाव में खड़े हो रहे हम

आप सबको अभी से करते हैं नमन

यूं ही पार उतरना है

नैया का क्या करना है, अब तो यूं ही पार उतरना है

कुछ डूबेंगे, कुछ तैरेंगे, सब अपनी हिम्मत से करना है

नहीं खड़ा है अब खेवट कोई, नैया पार लगाने को

जान लिया है सब दिया-लिया इस जीवन में ही भरना है

दैवीय सौन्दर्य

रंगों की शोखियों से

मन चंचल हुआ।

रक्त वर्ण संग

बासन्तिका,

मानों हवा में लहरें

किलोल कर रहीं।

आंखें अपलक

निहारतीं।

काश!

यहीं,

इसी सौन्दर्य में

ठहर जाये सब।

कहते हैं

क्षणभंगुर है जीवन।

स्वीकार है

यह क्षणभंगुर जीवन,

इस दैवीय सौन्दर्य के साथ।

सूरज को रोककर मैंने पूछा

सूरज को रोककर

मैंने पूछा

चलोगे मेरे साथ ?

-

हँस दिया सूरज

मैं तो चलता ही चलता हूँ।

तुम अपनी बोलो

चलोगे मेरे साथ ?

-

कभी रुका नहीं

कभी थका नहीं।

तुम अपनी बोलो

चलोगे मेरे साथ ?

-

दिन-रात घूमता हूँ

सबके हाल पूछता हूँ।

तुम अपनी बोलो

चलोगे मेरे साथ ?

-

रंगीनियों को सहेजता हूँ।

रंगों को बिखेरता हूँ।

तुम अपनी बोलो

चलोगे मेरे साथ ?

-

चँदा-तारे मेरे साथी

कौन तुम्हारे साथ ?

तुम अपनी बोलो

चलोगे मेरे साथ ?

-

बादल-वर्षा, आंधी-तूफ़ान

ग्रीष्म-शिशिर सब मेरे साथी।

तुम अपनी बोलो

चलोगे मेरे साथ ?

-

विस्तार गगन का

किसने नापा।

तुम अपनी बोलो

चलोगे मेरे साथ ?

 

 

 


 

प्रेम-सम्बन्ध

 

दो क्षणिकाएं

******-******

प्रेम-सम्बन्ध

कदम बहके

चेहरा खिले

यूं ही मुस्काये

होंठों पर चुप्पी

पर आंखें

कहां मानें

सब कह डालें।

*-*

प्रेम-सम्बन्ध

मानों बहता दरिया

शीतल समीर

बहकते फूल

खिलता पराग

ठण्डी छांव

आकाश से

बरसते तुषार।

 

सागर का मन

पूर्णिमा के चांद को देख

चंचल हो उठता है

सागर का मन,

उत्ताल तरंगें

उमड़ती हैं

उसके मन में,

वैसे ही सीमा-विहीन है

सागर का मन।

ऐसे में

और  बिखर-बिखर जाता है,

कौन समझा है यहां।

 

 

यादों के पृष्ठ सिलती रही

ज़िन्दगी,

मेरे लिए

यादों के पृष्ठ लिखती रही।

और मैं उन्हें

सबसे छुपाकर,

एक धागे में सिलती रही।

 

कुछ अनुभव थे,

कुछ उपदेश,

कुछ दिशा-निर्देश,

सालों का हिसाब-बेहिसाब,

कभी पढ़ती,

कभी बिखरती रही।

 

समय की आंधियों में

लिखावट मिट गई,

पृष्ठ जर्जर हुए,

यादें मिट गईं।

 

तब कहीं जाकर

मेरी ज़िन्दगी शुरू हुई।

जीवन का राग

रात में सूर्य रश्मियां द्वार खटखटाती हैं
दिन भर जीवन का राग सुनाती हैं
शाम ढलते ढलते सुर साज़ बदल जाते हैं
तब चंद्र किरणें थपथपाकर सुलाती हैं

आत्मस्वीकृति

कौन कहता है

कि हमें ईमानदारी से जीना नहीं आता

अभी तो जीना सीखा है हमने।

 

दुकानदार जब सब्जी तोलता है

तो दो चार मटर, एक दो टमाटर

और कुछ छोटी मोटी

हरी पत्तियां तो चखी ही जा सकती हैं।

वैसे भी तो वह ज्यादा भाव बताकर

हमें लूट ही रहा था।

राशन की दुकान पर

और कुछ नहीं तो

चीनी तो मीठी ही है।

 

फिर फल वाले का यह कर्त्तव्य है

कि जब तक हम

फलों को जांचे परखें, मोल भाव करें

वह साथ आये बच्चे को

दो चार दाने अंगूर के तो दे।

और फल चखकर ही तो पता लगेगा

कि सामान लेने लायक है या नहीं

और बाज़ार से मंहगा है।

 

किसे फ़ुर्सत है देखने की

कि सिग्रेट जलाती समय

दुकानदार की माचिस ने

जेब में जगह बना ली है।

और अगर बर्तनों की दुकान पर

एक दो चम्मच या गिलास

टोकरी में गिर गये हैं

तो इन छोटी छोटी चीज़ों में

क्या रखा है

इन्हें महत्व मत दो

इन छोटी छोटी वारदातों को

चोरी नहीं ज़रूरत कहते हैं

ये तो ऐसे ही चलता है।

 

कौन परवाह करता है

कि दफ्तर के कितने पैन, कागज़ और रजिस्टर

घर की शोभा बढ़ा रहे हैं

बच्चे उनसे तितलियां बना रहे हैं

हवाई जहाज़ उड़ा रहे हैं

और उन कागज़ों पर

काले चोर की तस्वीर बनाकर

तुम्हें ही डरा रहे हैं।

लेकिन तुम क्यों डरते हो  ?

कौन पहचानता है इस तस्वीर को

क्योंकि हम सभी का चेहरा

किसी न किसी कोण से

इस तस्वीर के पीछे छिपा है

यह और बात है कि

मुझे तुम्हारा और तुम्हें मेरा दिखा है।

इसलिए बेहतर है दोस्त

हाथ मिला लें

और इस चित्र को

बच्चे की हरकत कह कर जला दें।

 

कानून तोड़ना हक है मेरा

जीत हार की बात न करना

गाड़ी यहां अड़ी हुई है।

कितने आगे कितने पीछे,

किसकी आगे, किसकी पीछे,

जांच अभी चली हुई है।

दोपहिए पर बैठे पांच,

चौपहिए में दस-दस बैठें,

फिर दौड़ रहे बाजी लेकर,

कानून तोड़ना हक है मेरा

देखें, किसकी दाल यहां गली हुई है।

गली-गली में शोर मचा है

मार-काट यहां मची हुई है।

कौन है राजा, कौन है रंक

जांच अभी चली हुई है।

राजा कहता मैं हूं रंक,

रंक पूछ रहा तो मैं हूं कौन

बात-बात में ठनी हुई है।

सड़कों पर सैलाब उमड़ता

कौन सही है कौन नहीं है,

आज यहां हैं कल वहां थे,

क्यों सोचे हम,

हमको क्या पड़ी हुई है।

कल हम थे, कल भी होंगे,

यही समझकर

अपनी जेब भरी हुई है।


 

अभी तो चल रही दाल-रोटी

जिस दिन अटकेगी

उस दिन हम देखेंगे

कहां-कहां गड़बड़ी हुई है।

अभी क्या जल्दी पड़ी हुई है।

मेरा आधुनिक विकासशील भारत

यह मेरा आधुनिक विकासशील भारत है

जो सड़क पर रोटियां बना रहा है।

यह मेरे देश की

पचास प्रतिशत आबादी है

जो सड़क पर अपनी संतान को

जन्म देती है

उनका लालन-पालन करती है

और इस प्राचीन

सभ्य, सुसंस्कृत देश के लिए

नागरिक तैयार करती है।

यह मेरे देश की वह भावी पीढ़ी है

जिसके लिए

डिजिटल इंडिया की

संकल्पना की जा रही है।

यह मेरे देश के वे नागरिक हैं

जिनकी शिक्षा, स्वास्थ्य और विकास

के विज्ञापनों पर

अरबों-खरबों रूपये लगाये जा रहे हैं,

बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ

अभियान चला रहे हैं।

इन सब की सुरक्षा

और विकास के लिए

धरा से गगन तक के

मार्ग बनाये जा रहे हैं।

क्या यह भारत

चांद और उपग्रहों से नहीं दिखाई देता ?