फूलों संग महक रही धरा

पत्तों पर भंवरे, कभी तितली बैठी देखो पंख पसारे।

धूप सेंकती, भोजन करती, चिड़िया देखो कैसे पुकारे।

सूखे पत्ते झर जायेंगे, फिर नव किसलय आयेंगें,

फूलों संग महक रही धरा, बरसीं बूंदें कण-कण निखारे।

जब आग लगती है

किसी आग में घर उजड़ते हैं

कहीं किसी के भाव जलते हैं

जब आग लगती है किसी वन में

मन के संताप उजड़ते हैं

शेर-चीतों को ले आये हम

अभयारण्य में

कोई बताये मुझे

क्या कहूं उस चिडि़या से,

किसी वृक्ष की शाख पर,

जिसके बच्चे पलते हैं

 

जामुन लटके पेड़ पर

जामुन लटके पेड़ पर

ऊंचे-ऊंचे रहते।

और हम देखो

आस लगाये

नीचे बैठै रहते।

आंधी आये, हवा चले

तो हम भी कुछ खायें।

एक डाली मिल गई नीची

हमने झूले झूले।

जामुन बरसे

हमने भर-भर लूटे।

माली आता देखकर

हम सब सरपट भागे।

चोरी-चोरी घर से
कोई लाया नमक

तो कोई लाया मिर्ची।

जिसको जितने मिल गये

छीन-छीनकर खाये।

साफ़ किया मुंह अच्छे-से

और भोले-भाले बनकर

घर आये।

मां ने “रंगे हाथ”

पकड़ी हमारी चोरी।

मां के हाथ आया डंडा

हम आगे-आगे

मां पीछे-पीछे भागे।

थक-हार कर बैठ गई मां।

 

मेरे हिस्से का सूरज

कैसे कुछ लोग मेरे हिस्से का सूरज खा भी गये।

यूं देखा जाये

तो रोशनी पर सबका हक़ है।

पर सबके पास

अपने-अपने हक का

सूरज भी तो होता है।

फ़िर, क्यों, कैसे

कुछ लोग

मेरे हिस्से का सूरज खा गये।

बस एक बार

इतना ही समझना चाहती हूं

कि गलती मेरी थी कहीं,

या फिर

लोगों ने मेरे हक का सूरज

मुझसे छीन लिया।

शायद गलती मेरी ही थी।

बिना सोचे-समझे

रोशनियां बांटने निकल पड़ी मैं।

यह जानते हुए भी

कि सबके पास

अपना-अपना सूरज भी है।

बस बात इतनी-सी

कि अपने सूरज की रोशनी पाने के लिए

कुछ मेहनत करनी पड़ती है,

उठाने पड़ते हैं कष्ट,

झेलनी पड़ती हैं समस्याएं।

पर जब यूं ही

कुछ रोशनियां मिल जायें,

तो क्यों अपने सूरज को जलाया जाये।

जब मैं नहीं समझ पाई,

इतनी-सी बात।

तो होना यही था मेरे साथ,

कि कुछ लोग

मेरे हिस्से का सूरज खा गये।

 

बादल राग सुनाने के लिए

बादल राग सुनाने के लिए

योजनाओं का

अम्बार लिए बैठे हैं हम।

पानी पर

तकरार किये बैठै हैं हम।

गर्मियों में

पानी के

ताल लिए बैठे हैं हम।

वातानुकूलित भवनों में

पानी की

बौछार लिए बैठे हैं हम।

सूखी धरती के

चिन्तन के लिए

उधार लिए बैठे हैं हम।

कभी पांच सौ

कभी दो हज़ार

तो कभी

छः हज़ारी के नाम पर

मत-गणना किये बैठे हैं हम।

हर रोज़

नये आंकड़े

जारी करने के लिए

मीडिया को साधे बैठे हैं हम।

और कुछ न हो सके

तो तानसेन को

बादल राग सुनाने के लिए

पुकारने बैठे हैं हम।

अनुभव की बात है

कभी किसी ने  कह दिया

एक तिनके का सहारा भी बहुत होता है।

किस्मत साथ दे ,

तो सीखा हुआ

ककहरा भी बहुत होता है।

लेकिन पुराने मुहावरे

ज़िन्दगी में सदा साथ नहीं देते ।

यूं तो बड़े-बड़े पहाड़ों को

यूं ही लांघ जाता है आदमी ,

लेकिन कभी-कभी

एक तिनके की चोट से

घायल मन

हर आस-विश्वास खोता है।

 

मधुर-मधुर पल

 

प्रकृति अपने मन से

एक मुस्‍कान देती है।

कुछ रंग,

कुछ आकार देती है।

प्‍यार की आहट

और अपनेपन की छांव देती है।

कलियां

नवजीवन की आहट देती हैं।

खिलते हैं फूल

जीवन का आसार देती हैं।

जब गिरती हैं पत्तियां

रक्‍तवर्ण

मन में एक चाहत का भास देती हैं।

समेट लेती हूं मुट्ठी में

मधुर-मधुर पलों का आभास देती हैं।

 

रिश्तों का असमंजस

कुछ रिश्ते

फूलों की तरह होते हैं

और कुछ कांटों की तरह।

फूलों को सहेज लीजिए

कांटों को उखाड़ फेंकिए।

नहीं तो, बहुत

असमंजस की स्थिति

बनी रहती है।

किन्तु, कुछ कांटे

फूलों के रूप में आते हैं ,

और कुछ फूल

कांटों की तरह

दिखाई देते हैं।

और कभी कभी,

दोनों

साथ-साथ उलझे भी रहते हैं।

बड़ा मुश्किल होता है परखना।

पर परखना तो पड़ता ही है।

 

बांसुरी छोड़ो आंखें खोलो

बांसुरी छोड़ो, आंखें खोलो,

ज़रा मेरी सुनो।

कितने ही युगों में

नये से नये अवतार लेकर

तुमने

दुष्टों का संहार किया,

विश्व का कल्याण किया।

और अब इस युग में

राधा-संग

आंख मूंदकर निश्चिंत बैठे हो,

मानों सतयुग हो, द्वापर युग हो

या हो राम-राज्य।

-

अथवा मैं यह मान लूं,

कि तुम

साहस छोड़ बैठे हो,

आंख खोलने का।

क्योंकि तुम्हारे प्रत्येक युग के दुष्ट

रूप बदलकर,

इस युग में संगठित होकर,

तुमसे पहले ही अवतरित हो चुके हैं,

नाम-ग्राम-पहचान सब बदल चुके हैं,

निडर।

क्योंकि वे जानते हैं,

तुम्हारे आयुध पुराने हो चुके हैं,

तुम्हारी सारी नीतियां,

बीते युगों की बात हो चुकी हैं,

और कोई अर्जुन, भीम नहीं हैं यहां।

अत: ज़रा संम्हलकर उठना।

वे राह देख रहे हैं तुम्हारी

दो-दो हाथ करने के लिए।

 

 

एक आदमी मरा

एक आदमी मरा।

अक्सर एक आदमी मरता है।

जब तक वह जिंदा  था

वह बहुत कुछ था।

उसके बार में बहुत सारे लोग

बहुत-सी बातें जानते थे।

वह समझदार, उत्तरदायी

प्यारा इंसान था।

उसके फूल-से कोमल दो बच्चे थे।

या फिर वह शराबी, आवारा बदमाश था।

पत्नी को पीटता था।

उसकी कमाई पर ऐश करता था।

बच्चे पैदा करता था।

पर बच्चों के दायित्व के नाम पर

उन्हें हरामी के पिल्ले कहता था।

वह आदमी एक औरत का पति था।

वह औरत रोज़ उसके लिए रोटी बनाती थीं,

उसका बिस्तर बिछाती थी,

और बिछ जाती थी।

उस आदमी के मरने पर

पांच सौ आदमी

उसकी लाश के आस-पास एकत्र थे।

वे सब थे, जो उसके बारे में

कुछ भी जानते थे।

वे सब भी थे

जो उसके बारे में तो नहीं जानते थे

किन्तु उसकी पत्नी और बच्चों के बारे

में कुछ जानते थे।

कुछ ऐसे भी थे जो कुछ भी नहीं जानते थे

लेकिन फिर भी वहां थे।

उन पांच सौ   लोगों में

एक भी ऐसा आदमी नहीं था,

जिसे उसके मरने का

अफ़सोस न हो रहा हो।

लेकिन अफ़सोस का कारण

कोई नहीं बता पा रहा था।

अब उसकी लाश ले जाने का

समय आ गया था।

पांच सौ आदमी छंटने लगे थे।

श्‍मशान घाट तक पहुंचते-पहुंचते

बस कुछ ही लोग बचे थे।

लाश   जल रही थी,भीड़ छंट रही थी ।

एक आदमी मरा। एक औरत बची।

 

पता नहीं वह कैसी औरत थी।

अच्छी थी या बुरी

गुणी थी या कुलच्छनी।  

पर एक औरत बची।

एक आदमी से

पहचानी जाने वाली औरत।

अच्छे या बुरे आदमी की एक औरत।

दो अच्छे बच्चों की

या फिर हरामी पिल्लों की मां।

अभी तक उस औरत के पास

एक आदमी का नाम था।

वह कौन था, क्या था,

अच्छा था या बुरा,

इससे किसी को क्या लेना।

बस हर औरत के पीछे

एक अदद आदमी का नाम होने से ही

कोई भी औरत

एक औेरत हो जाती है।

और आदमी के मरते ही

औरत औरत न रहकर

पता नहीं क्या-क्या बन जाती है।

-

अब उस औरत को

एक नया आदमी मिला।

क्या फर्क पड़ता है कि वह

चालीस साल का है

अथवा चार साल का।

आदमी तो आदमी ही होता है।

 

उस दिन  हज़ार से भी ज़्यादा

आदमी एकत्र थे।

एक चार साल के आदमी को

पगड़ी पहना दी गई।

सत्ता दी गई उस आदमी की

जो मरा था।

अब वह उस मरे हुए आदमी का

उत्तरााधिकारी था ,

और उस औरत का भी।

उस नये आदमी की सत्ता की सुरक्षा के लिए

औरत का रंगीन दुपट्टा

और कांच की चूड़ियां उतार दी गईं।

-

एक आदमी मरा।

-

नहीं ! एक औरत मरी।

 

तीर खोज रही मैं

गहरे सागर के अंतस में

तीर खोज रही मैं।

ठहरा-ठहरा-सा सागर है,

ठिठका-ठिठका-सा जल।

कुछ परछाईयां झलक रहीं,

नीरवता में डूबा हर पल।

-

चकित हूं मैं,

कैसे द्युतिमान जल है,

लहरें आलोकित हो रहीं,

तुम संग हो मेरे

क्या यह तुम्हारा अक्स है?

हम श्मशान बनने लगते हैं

इंसान जब  मर जाता है,

शव कहलाता है।

जिंदा बहुत शोर करता था,

मरकर चुप हो जाता है।

किन्तु जब मर कर बोलता है,

तब प्रेत कहलाता है।

.

श्मशान में टूटती चुप्पी

बहुत भयंकर होती है।

प्रेतात्माएं होती हैं या नहीं,

मुझे नहीं पता,

किन्तु जब

जीवित और मृत

के सम्बन्ध टूटते हैं,

तब सन्नाटा भी टूटता है।

कुछ चीखें

दूर तक सुनाई देती हैं

और कुछ

भीतर ही भीतर घुटती हैं।

आग बाहर भी जलती है

और भीतर भी।

इंसान है, शव है या प्रेतात्मा,

नहीं समझ आता,

जब रात-आधी-रात

चीत्कार सुनाई देती है,

सूर्यास्त के बाद

लाशें धधकती हैं,

श्मशान से उठती लपटें,

शहरों को रौंद रही हैं,

सड़कों पर घूम रही हैं,

बेखौफ़।

हम सिलेंडर, दवाईयां,

बैड और अस्पताल का पता लिए,

उनके पीछे-पीछे घूम रहे हैं

और लौटकर पंहुच जाते हैं

फिर श्मशान घाट।

.

फिर चुपचाप

गणना करने लगते हैं, भावहीन,

आंकड़ों में उलझे,

श्मशान बनने लगते हैं।

 

नेह का बस एक फूल

जीवन की इस आपाधापी में,

इस उलझी-बिखरी-जि़न्‍दगी में,

भाग-दौड़ में बहकी जि़न्‍दगी में,

नेह का बस कोई एक फूल खिल जाये।

मन संवर संवर जाता है।

पत्‍ती-पत्‍ती , फूल-फूल,

परिमल के संग चली एक बयार,

मन बहक बहक जाता है।

देखएि  कैसे सब संवर संवर जाता है।

 

नेह की पौध

हृदय में अंकुरित होती है

जब नेह की पौध,

विश्रृंखलित होते हैं मन के भाव ,

लेने लगते हैं आकार।

पुष्पित –पल्‍लवित होती हैं

कुछ भाव लताएं।

द्युतिमान होता है मन का आकाश।

नीलाभ आकाश और धरा,

जीवन आलोकित करते हैं।

मन में एक विश्चास हो

चल आज

इन उमड़ते-घुमड़ते बादलों

में जीवन का

एक मधुर चित्र बनायें।

सूरज की रंगीनियां

बादलों की अठखेलियां

किरणों से बनायें।

दूरियां कितनी भी हों,

जब हाथ में हाथ हो,

मन में एक विश्चास हो,

सहज-सरल-सरस

भाव हों,

बस , हम और आप हों।

 

न छूट रहे लगाव थे

कुछ कहे-अनकहे भाव थे।

कुछ पंख लगे चाव थे।

कुछ शब्दों के साथ थे।

कुछ मिट गये लगाव थे।

कुछ को शब्द मिले थे।

कुछ सूख गये रिसाव थे।

आधी नींद में देखे

कुछ बिखरे-बिखरे ख्वाब थे।

नहीं पलटती अब मैं पन्ने,

नहीं संवारती पृष्ठ।

कहीं धूल जमी,

कहीं स्याही बिखरी।

किसी पुरानी-फ़टी किताब-से,

न छूट रहे लगाव थे।

तलाश

वे और थे

जो मंज़िल की तलाश में

भटका करते थे।

आज तो

 मंज़िल मेरी तलाश में है।

क्योंकि

मंज़िल तक

कोई पहुंचता ही नहीं।

आत्ममूल्यांकन

 

अत्यन्त सरल है

मेरे लिए

तुम्हारे गुण दोष

रूप रंग, चाल ढाल

उठने बैठने, बातचीत करने

और तुम्हारी अन्य सभी

बातों का निरूपण करना।

किन्तु ऐसा तो सभी कर लेते हैं,

तुम कुछ अलग करके देखो।

दर्पण देखना सीखो।

पोखर भैया ताल-तलैया

ताल-तलैया, पोखर भैया,

मैं क्‍या जानू्ं

क्‍या होते सरोवर मैया।

बस नाम सुना है

न देखें हमने भैया।

गड्ढे देखे, नाले देखे,

सड़कों पर बहते परनाले देखे,

छप-छपाछप गाड़ी देखी।

सड़कों पर आबादी देखी।

-

जब-जब झड़ी लगे,

डाली-डाली बहके।

कुहुक-कुहुक बोले चिरैया ।

रंग निखरें मन महके।

मस्‍त समां है,

पर लोगन को लगता डर है भैया।

सड़कों पर होगा

पोखर भैया, ताल-तलैया

हमने बोला मैया,

अब तो हम भी देखेंगे ,

कैसे होते हैं ताल-तलैया,

और सरोवर, पोखर भैया ।

ऐसा नहीं होता मेरे मालिक

 

कर्म न करना,

परिश्रम न करना,

धर्म न निभाना

बस राम-नाम जपना।

.

आंखें बन्द कर लेने से

बिल्ली नहीं भाग जाती।

राम-नाम जपने से

समस्या हल नहीं हो जाती।

.

कुछ चरित्र हमें राह दिखाते हैं।

सन्मार्ग पर चलाते हैं।

किन्तु उनका नाम लेकर

हाथ पर हाथ धरे

बैठने को नहीं कहते हैं।

.

बुद्धि दी, समझ दी,

दी हमें निर्माण-विध्वंस की शक्ति।

दुरुपयोग-सदुपयोग हमारे हाथ में था।

.

भूलें करें हम,

उलट-पुलट करें हम,

और जब हाथ से बाहर की बात हो,

तो हे राम ! हे राम!

.

ऐसा नहीं होता मेरे मालिक।

सब आओ साथ-साथ खेलेंगे

सब आओ साथ-साथ खेलेंगे

छप-छपा-छप, छप-छपा-छप,

दौड़ूं मैं।

आजा पानी, आजा पानी

भीगूं मैं।

पेड़ों पर पंछी बैठे,

भीग रहे।

वो देखो,

बिल्लो माई दुबकी बैठी।

फुदक-फुदककर,

फुदक-फुदककर,

गिलहरी घूम रही।

मैं देखो छाता लाई हूं,

सब आओ मेरे संग,

साथ-साथ खेलेंगे।

बिल्लो रानी तुमको दूध मिलेगा,

गिलहरी तुम खाना अखरोट।

चिड़िया को दाना दूंगी,

तोता खायेगा अमरूद।

मैं खा लूंगी रोटी।

फिर तुम सब अपने घर जाना।

मैं अपने घर जाउंगी,

कल तुम से मिलने फिर आउंगी।

 

कयामत के दिन चार होते हैं

 

कहीं से सुन लिया है

कयामत के दिन चार होते हैं,

और ज़िन्दगी भी

चार ही दिन की होती है।

तो क्या कयामत और ज़िन्दगी

एक ही बात है?

नहीं, नहीं,

मैं ऐसे डरने वाली नहीं।

लेकिन

कंधा देने वाले भी तो

चार ही होते हैं

और दो-दूनी भी

चार ही होते हैं।

और हां,

बातें करने वाले भी

चार ही लोग होते हैं,

एक है न कहावत

‘‘चार लोग क्या कहेंगे’’।

वैसे मुझे अक्सर

अपनी ही समझ नहीं आती।।

बात कयामत की करने लगी थी

और दो-दूनी चार के

पहाड़े पढ़ने लगी।

ऐसे थोड़े ही होता है।

चलो, कोई बात नहीं।

फिर कयामत की ही बात करते हैं।

सुना है, कोई

कोरोना आया है,

आयातित,

कहर बनकर ढाया है।

पूरी दुनिया को हिलाया है

भारत पर भी उसकी गहन छाया है।

कहते हैं,

उसके साथ

छुपन-छुपाई खेल लो चार दिन,

भाग जायेगा।

तुम अपने घर में बन्द रहो

मैं अपने घर में।

ढूंढ-ढूंढ थक जायेगा,

और अन्त में थककर मर जायेगा।

तब मिलकर करेंगे ज़िन्दगी

और कयामत की बात,

चार दिन की ही तो बात है,

तो क्या हुआ, बहुत हैं

ये भी बीत जायेंगे।

 

अब कोई हमसफ़र नहीं होता

प्रार्थनाओं का अब कोई असर नहीं होता।

कामनाओं का अब कोई

सफ़र नहीं होता।

सबकी अपनी-अपनी मंज़िलें हैं ,

और अपने हैं रास्ते।

सरे राह चलते

अब कोई हमसफ़र नहीं होता।

देखते-परखते निकल जाती है

ज़िन्दगी सारी,

साथ-साथ रहकर भी ,

अब कोई बसर नहीं होता।

भरोसे की तो हम

अब बात ही नहीं करते,

अपने और परायों में

अब कुछ अलग महसूस नहीं होता।

 

अपनी आवाज़ अपने को सुनाती हूं मैं

मन के द्वार

खटखटाती हूं मैं।

अपनी आवाज़

अपने को सुनाती हूं मैं।

द्वार पर बैठी

अपने-आपसे

बतियाती हूं मैं।

इस एकान्त में

अपने अकेलपन को

सहलाती हूं मैं।

द्वार उन्मुक्त हों या बन्द,

कहानी कहां बदलती है जीवन की,

सहेजती हूं कुछ स्मृतियां रंगों में,

कुछ को रंग देती हूं,

आकार देती हूं,

सौन्दर्य और आभास देती हूं।

जीवन का, नवजीवन का

भास देती हूं।

 

ज़िन्दगी लगती बेमानी है

जन्म की अजब कहानी है, मरण से जुड़ी रवानी है।

श्मशान घाट में जगह नहीं, खो चुके ज़िन्दगानी हैं।

पंक्तियों में लगे शवों का टोकन से होगा संस्कार,

फ़ुटपाथ पर लगी पंक्तियां, ज़िन्दगी लगती बेमानी है।

किसकी डोर किसके हाथ

कहां समझे हैं हम, 

जीवन की सच्‍चाईयों और

चित्रों में बहुत अन्‍तर होता है।

कठपुतली नाच और

जीवन के रंगमंच के

नाटक का

अन्‍त अलग-अलग होता है।

स्‍वप्‍न और सत्‍य में

धरा-आकाश का अन्‍तर होता है।

इस चित्र को देखकर मन बहला लो ।

कटाक्ष और व्‍यंग्‍य का

पटल बड़ा होता है।

किसकी डोर किसके हाथ

यह कहां पता होता है।

कहने और लिखने की बात और है,

जीवन का सत्‍य क्‍या है,

यह सबको पता होता है ।

 

रोज़ पढ़ती  हूं भूल जाती  हूं

जीवन के सिखाये गये पाठ
बार बार दोहराती हूं।

रोज़ याद करती  हूं, पर भूल जाती  हूं ।

पुस्तकें पढ़कर नहीं चलता जीवन,
यह जानकर भी
वही पाठ बार-बार दोहराती हूं ।
सब कहते हैं, पढ़ ले, पढ़ ले,
जीवन में कुछ आगे बढ़ ले ।
पर मेरी बात

कोई क्यों नहीं समझ पाता।
कुछ पन्ने, कुछ हिसाब-बेहिसाब
कभी समझ ही नहीं पाती  हूं,

लिख-लिखकर दोहराती हूं ।

कभी स्याही चुक जाती है ,

कभी कलम छूट जाती है,
अपने को बार-बार समझाती हूं ।

फिर भी,

रोज़ याद करती हूं ,भूल जाती  हूं ।
ज़्यादा गहराईयों से

डर लगता है मुझे
इसलिए कितने ही पन्ने
अधपढ़े छोड़ आगे बढ़ जाती हूं ।
कोई तो समझे मेरी बात ।
कहते हैं,

तकिये के नीचे रख दो किताब,
जिसे याद करना हो बेहिसाब,
पर ऐसा करके भी देख लिया मैंने
सपनों में भी पढ़कर देख लिया मैंने,

बस, इसी तरह जीती चली जाती हूं ।

.
रोज़ पढ़ती  हूं भूल जाती  हूं ।

 

सच बोलने की आदत है बुरी

सच बोलने की आदत है बुरी

इसीलिए

सभी लोग रहने लगे हैं किनारे

पीठ पर वार करना मुझे भाता नहीं

चुप रहना मुझे आता नहीं

भाती नहीं मुझे झूठी मिठास

मन मसोस कर मैं जीती नहीं

खरी-खरी कहने से मैं रूकती नहीं

इसीलिए

सभी लोग रहने लगे हैं किनारे

-

हालात क्‍या बदले,

वक्‍त ने क्‍या चोट दी,

सब लोग रहने लगे हैं किनारे

काश !

कोई तो हमारी डूबती कश्‍ती में

सवार होता संग हमारे

कहीं तो हम नाव खेते

किसी के सहारे।

-

किन्‍तु हालात यूं बदले

न पता लगा, कब टूटे किनारे

सब लोग जो बैठे थे किनारे

डूबते-उतरते वे अब ढूंढने लगे सहारे

तैर कर निकल आये हम तो किनारे

उसी कश्‍ती को थाम ,

अब वे भी ढूंढने में लगे हैं किनारे

 

नदिया से मैंने पूछा

नदिया से मैंने पूछा

कल-कल कर क्‍यों बहती हो।

बहते-बहते

कभी सिमट-सिमट कर

कभी बिखर-बिखर जाती हो।

कभी मधुर संगीत छेड़ती

कभी विकराल रूप दिखाती हो।

कभी सूखी,

कभी लहर-लहर लहराती हो।

नदिया बोली,

मुझसे क्‍या पूछ रहे

तुम भी तो ऐसे ही हो मानव।   

पर मैं आज तुम्‍हें चेताती हूं। 

इसीलिए,

कल-कल की बातें कहती हूं।

समझ सको तो, सम्‍हल सको तो

रूक कर, ठहर-ठहर कर

सोचो तुम।

बहते-बहते, सिमट-सिमट कर

अक्‍सर क्‍यों बिखर-बिखर जाती हूं ।

मधुर संगीत छेड़ती

क्‍यों विकराल रूप दिखाती हूं।

जब सूखी,

फिर कहां लहर-लहर लहराती हूं।

मैं आज तुम्‍हें चेताती हूं। 

 

 

कृष्ण की पुकार

न कर वन्‍दन मेंरा

न कर चन्‍दन मेरा

अपने भीतर खोज

देख क्रंदन मेरा।

हर युग में

हर मानव के भीतर जन्‍मा हूं।

न महाभारत रचा

न गीता पढ़ी मैंने

सब तेरे ही भीतर हैं

तू ही रचता है।

ग्‍वाल-बाल, गैया-मैया, रास-रचैया

तेरी अभिलाषाएं

नाम मेरे मढ़ता है।

बस राह दिखाई थी मैंने  

न आयुध बांटे

न चक्रव्‍यूह रचे मैंने

लाक्षाग्रह, चीर-वीर,

भीष्‍म-प्रतिज्ञाएं

सब तू ही करता है

और अपराध छुपाने को अपना

नाम मेरा रटता है।

पर इस धोखे में मत रहना

तेरी यह चतुराई

कभी तुझे बचा पायेगी।

कुरूक्षेत्र अभी लाशों से पटा पड़ा है

देख ज़रा जाकर

तू भी वहीं कहीं पड़ा है।