कोशिश तो करते हैं

लिखने की

कोशिश तो करते हैं

पर क्या करें हे राम!

छुट्टी के दिन करने होते हैं

घर के बचे-खुचे कुछ काम।

धूप बुलाती आंगन में

ले ले, ले ले विटामिन डी

एक बजे तक सेंकते हैं

धूप जी-भरकर जी।

फिर करके भारी-भारी भोजन

लेते हैं लम्बी नींद जी।

संध्या समय

मंथन पढ़ते-पढ़ते ही

रह जाते हैं हम

जब तक सोंचे

कमेंट करें

आठ बज जाते हैं जी।

फिर भी

लिखने की

कोशिश तो करते हैं

पर क्या करें हे राम!

 

कानून तोड़ना अधिकार हमारा

अधिकारों की बात करें

कर्तव्यो का ज्ञान नहीं,

पढ़े-लिखे अज्ञानी

इनको कौन दे ज्ञान यहां।

कानून तोड़ना अधिकार हमारा।

पकड़े गये अगर

ले-देकर बात करेंगे,

फिर महफिल में बीन बजेगी

रिश्वतखोरी बहुत बढ़ गई,

भ्रष्टाचारी बहुत हो गये,

कैसे अब यह देश चलेगा।

आरोपों की झड़ी लगेगी,

लेने वाला अपराधी है

देने वाला कब होगा ?

 

दीप प्रज्वलित कर न पाई

मैं चाहकर भी

दीप प्रज्वलित कर न पाई।

घृत भी था, दीप भी था,

पर भाव ला न पाई,

मैं चाहकर भी

दीप प्रज्वलित कर न पाई।

लौ भीतर कौंधती थी,

सोचती रह गई,

समय कब बीत गया

जान ही न पाई।

मैं चाहकर भी

दीप प्रज्वलित कर न पाई।

मित्रों ने गीत गाये,

झूम-झूम नाचे गाये,

कहीं से आरती की धुन,

कहीं से ढोल की थाप

बुला रही थी मुझे

दुख मना रहे हैं या खुशियां

समझ न पाई।

कुछ अफ़वाहें

हवा में प्रदूषण फैला रही थी।

समस्या से जूझ रहे इंसानों को छोड़

धर्म-जाति का विष फैला रही थीं।

लोग सड़कों पर उतर आये,

कुछ पटाखे फोड़े,

पटाखों की रोशनाई

दिल दहला रहीं थी,

आवाज़ें कान फोड़ती थी।

अंधेरी रात में

दूर तक दीप जगमगाये,

पुलिस के सायरन की आवाज़ें

कान चीरती थीं।

दीप हाथ में था

ज्योति थी,

हाथ में जलती शलाका

कब अंगुलियों को छू गई

देख ही न पाई।

सीत्कार कर मैं पीछे हटी,

हाथ से दीप छूटा

भीतर कहीं कुछ और टूटा।

क्या कहूं , कैसे कहूं।

पर ध्यान कहीं और था।

घृत भी था, दीप भी था,

पर भाव ला न पाई,

मैं चाहकर भी

दीप प्रज्वलित कर न पाई।

 

उतर कभी धरा पर

अक्सर मन करता है

पूछूं चांद से

कहीं दूर

गगन में चमकता है

उतर कभी धरा पर

फिर देख कैसे

अंधेरा लीलता है,

भरपूर रोशनी में भी

कैसे अंधेरा बोलता है।

 

मुझको क्या करना है

मुझको कल पेपर देना है

कोई नकल करवा दे रे

पढ़ते-पढ़ते सो जाती हूं,

कोई मुझको उठवा दे रे

अंग्रेज, गणित भूगोल समझ न आये

कोई मुझको समझा दे रे

नामों की सूची इतनी लम्बी

कोई तो मुझको याद करवा दे रे

क्या करना है मुझको

कि सूरज और चंदा कितनी दूर

क्या करना है मुझको

कि दुनिया में कितने देश और कितनी दूर

हे इन्द्र देवता

कल शहर में

भारी बारिश करवा दे रे

जाम लगे और सड़कें बन्द हों,

पेपर रूकवा दे रे

क्यों इतने युद्ध हुए

 किसने करवाये

क्यों करवाये

कोई मुझको बतला दे रे

पढ़-पढ़कर सर चकराता है

कोई मुझको

अदरक वाली चाय पिलवा दे रे।

 

 

जीवन के कितने पल

वियोग-संयोग भाग्य के लेखे

अपने-पराये कब किसने देखे

दुःख-सुख तो आने-जाने हैं

जीवन के कितने पल किसने देखे।

 

अपना साहस परखता हूँ मैं

आसमान में तिरता हूँ मैं।

धरा को निहारता हूँ मैं।

अपना साहस परखता हूँ मैं।

मंज़िल पाने के लिए

खतरों से खेलता हूँ मैं।

यूँ भी जीवन का क्या भरोसा

लेकिन अपने भरोसे

आगे बढ़ता ही बढ़ता हूँ मैं।

हवाएँ घेरती हैं मुझे,

ज़माने की हवाओं को

परखता हूँ मैं।

साथी नहीं, हमसफ़र नहीं

अकेले ही

अपनी राहों को

तलाशता हूँ मैं।

 

भेड़-चाल की  बात

कभी आपने महसूस किया है

कि भीड़ होने के बावजूद

एक अकेलापन खलता है।

लोग समूहों में तो

दिखते हैं

किन्तु सूनापन खलता है।

कहा जाता था

झुंड पशुओं के होते हैं

और समूह इंसानों के।

किन्तु आजकल

दोनों ही नहीं दिखते।

सब अपने-अपने दड़बों में

बन्द होकर

एक-दूसरे को परख रहे हैं।

कभी भेड़ों के समूह के लिए

भेड़-चाल की

बहुत बात हुआ करती थी

जहाँ उनके साथ

सदैव

एक गड़रिया रहा करता था,

उनका मालिक,

और एक कुत्ता।

 भेड़ें तो

अपनी भेड़-चाल चलती रहती थीं

नासमझों की तरह।

गड़रिया

बस एक डण्डा लिए

हांकता रहता था उन्हें।

किन्तु कुत्ता !

घूमता रहता था

उनके चारों ओर

गीदड़ और सियार से

उनकी रक्षा के लिए।

 

अब

भेड़ों के समूह तो बिखर गये।

कुत्ते, सियार और गीदड़

मिलकर

नये-नये समूह बनाये घूम रहे हैं

आप दड़बों में बन्द रहिए

वे आपको समूह का महत्व समझा रहे हैं।

 

इरादे नेक हों तो

सिर उठाकर जीने का

मज़ा ही कुछ और है।

बाधाओं को तोड़कर

राहें बनाने का

मज़ा ही कुछ और है।

इरादे नेक हों तो

बड़े-बड़े पर्वत ढह जाते हैं

इस धरा और पाषाणों को भेदकर

गगन को देखने का

मज़ा ही कुछ और है।

बहुत कुछ सिखा जाता है यह अंकुरण

सुविधाओं में तो

सभी पनप लेते हैं

अपनी हिम्मत से

अपनी राहें बनाने मज़ा ही कुछ और है।

   

चोर-चोर मौसरे भाई

कहते हैं

चोर-चोर मौसरे भाई।

यह बात मेरी तो

कभी समझ न आई।

कितने भाई?

केवल मौसेरे ही क्यों भाई?

चचेरे, ममेरे की गिनती

क्यों नहीं आई?

और सगे कोई कम हैं,

उनकी बात क्यों न उठाई?

किसने देखे, किसने जाने

किसने पहचाने?

यूँ ही बदनाम किया

न जाने किसने यह

कहावत बनाई।

आधी रात होने को आई

और मेरी कविता

अभी तक न बन पाई।

और जब बात चोरों की है

तब क्या मौसेरे

और क्या चचेरे

सबसे डर कर रहना भाई।

बात चोरों की चली है

तो दरवाज़े-खिड़कियाँ

सब अच्छे से बन्द हैं

ज़रा देख लेना भाई।

 

चिड़िया से पूछा मैंने

चिड़िया रानी क्या-क्या खाती

राशन-पानी कहाँ से लाती

मुझको तो कुछ न बतलाती

थाली-कटोरी कहाँ से पाती

चोंच में तिनका लेकर घूमे

कहाँ बनाया इसने घर

इसके घर में कितने मैंम्बर

इधर-उधर फुदकती रहती

डाली-डाली घूम रही

फूल-फूल को छू रही

मैं इसके पीछे भागूं

कभी नीचे आती

कभी ऊपर जाती

मेरे हाथ कभी न आती।

नई राहें

नई राहें

तो सरकार बनवाती है।

कभी मरम्मत करवाती है,

कभी गढ्ढे भरवाती है।

कभी पहाड़ कटते हैं,

तो कभी नदियों के

रास्ते बदलते हैं।

-

और हमारी राहें!

-

राहें तो पुरानी होती हैं

बस हमारी चालें

नई होती हैं।

ओस की बूंदें

अंधेरों से निकलकर बहकी-बहकी-सी घूमती हैं ओस की बूंदें ।

पत्तों पर झूमती-मदमाती, लरजतीं] डोलती हैं ओस की बूंदें ।

कब आतीं, कब खो जातीं, झिलमिलातीं, मानों खिलखिलातीं

छूते ही सकुचाकर, सिमटकर कहीं खो जाती हैं ओस की बूंदें। 

अपनेपन को समझो

रिश्तों में जब बिखराव लगे तो अपनी सीमाएं समझो

किसी और की गलती से पहले अपनी गलती परखो

इससे पहले कि डोरी हाथ से छूटती, टूटती दिखे

कुछ झुक जाओ, कुछ मना लो, अपनेपन को समझो

उलझे बैठे हैं अनजान राहों में

जीवन ऊँची-नीची डगर है।

मन में भावनाओं का समर है।

उलझे बैठे हैं अनजान राहों में

मानों अंधेरों में ही अग्रसर हैं।

मन सूना लगता है

दुनिया चाहे सम्मान दे, पर अपने मन को परखिए।

क्या पाया, क्या खाया, क्या गंवाया, जांच कीजिए।

कीर्ति पताकाएँ लहराती हैं, महिमा-गान हो रहा,

फिर भी मन सूना लगता है, इसका कारण जांचिए।

मुस्कुराहटें बांटती हूँ

टोकरी-भर मुस्कुराहटें बांटती हूँ।

जीवन बोझ नहीं, ऐसा मानती हूँ।

काम जब ईमान हो तो डर कैसा,

नहीं किसी का एहसान माँगती हूँ।

हालात कहाँ बदलते हैं

वर्ष बदलते हैं

दिन-रात बदलते हैं

पर हालात कहाँ बदलते हैं।

 

नया साल आ जाने पर

लगता था

कुछ तो बदलेगा,

यह जानते हुए भी

कि ऐसा सोचना ही

निरर्थक है।

आस-पास

जैसे सब ठहर गया हो।

मन की ऋतुएँ

नहीं बदलतीं अब,

शीत, बसन्त, ग्रीष्म हो

या  हो पतझड़

कोई नयी आस लेकर

नहीं आते अब,

किसी परिवर्तन का

एहसास नहीं कराते अब।

बन्द खिड़कियों से

न मदमाती हवाएँ

रिझाती हैं

और न रिमझिम बरसात

मन को लुभाती है।

 

एक ख़ौफ़ में जीते हैं

डरे-डरे से।

नये-नये नाम

फिर से डराने लगे हैं

हम अन्दर ही अन्दर

घबराने लगे हैं।

द्वार फिर बन्द होने लगे हैं

बाहर निकलने से डरने लगे हैं,

आशाओं-आकांक्षाओं के दम

घुटने लगे हैं

हम पिंजरों के जीव

बनने लगे हैं।

 

 

 

उधारों पर दुनिया चलती है

सिक्कों का अब मोल कहाँ

मिट्टी से तो लगते हैं।

पैसे की अब बात कहाँ

रंगे कार्ड-से मिलते हैं।

बचत गई अब कागज़ में

हिसाब कहाँ अब मिलते हैं।

खन-खन करते सिक्के

मुट्ठी में रख लेते थे।

पाँच-दस पैसे से ही तो

नवाब हम हुआ करते थे।

गुल्लक कब की टूट गई

बचत हमारी गोल हुई।

मंहगाई-टैक्सों की चालों से

बुद्धि हमारी भ्रष्ट हुई।

पैसे-पैसे को मोहताज हुए,

किससे मांगें, किसको दे दें।

उधारों पर दुनिया चलती है

शान इसी से बनती है।

 

अपनी कहानियाँ आप रचते हैं

पुस्तकों में लिखते-लिखते

भाव साकार होने लगे।

शब्द आकार लेने लगे।

मन के भाव नर्तन करने लगे।

आशाओं के अश्व

दौड़ने लगे।

सही-गलत परखने लगे।

कल्पना की आकृतियां

सजीव होने लगीं,

लेखन से विलग

अपनी बात कहने लगीं।

पूछने लगीं, जांचने लगीं,

सत्य-असत्य परखने लगीं।

अंधेरे से रोशनियों में

चलने लगीं।

हाथ थाम आगे बढ़ने लगीं।

चल, इस ठहरी, सहमी

दुनिया से अलग चलते हैं

बनी-बनाई, अजनबी

कहानियों से बाहर निकलते हैं,

अपनी कहानियाँ आप रचते हैं।

 

आशाओं के दीप

सुना है

आशाओं के

दीप जलते हैं।

शायद

इसी कारण

बहुत छोटी होती है

आशाओं की आयु।

और

इसी कारण

हम

रोज़-हर-रोज़

नया दीप प्रज्वलित करते हैं

आशाओं के दीप

कभी बुझने नहीं देते।

 

अपनी राहों पर अपने हक से चला मैं

रोशनी से

बात करने चला मैं।

सुबह-सवेरे

अपने से चला मैं।

उगते सूरज को

नमन करने चला मैं।

न बदला सूरज

न बदली उसकी आब,

तो अपनी राहों पर

यूं ही बढ़ता चला मैं।

उम्र यूं ही बीती जाती

सोचते-सोचते

आगे बढ़ता चला मैं।

धूल-धूसरित राहें

न रोकें मुझे

हाथ में लाठी लिए

मनमस्त चला मैं।

साथ नहीं मांगता

हाथ नहीं मांगता

अपने दम पर

आज भी चला मैं।

वृक्ष भी बढ़ रहे,

शाखाएं झुक रहीं

छांव बांटतीं

मेरा साथ दे रहीं।

तभी तो

अपनी राहों पर

अपने हक से चला मैं।

 

जीवन की डगर चल रही

राहें पथरीली

सुगम सुहातीं।

कदम-दर कदम

चल रहे

साथ न छूटे

बात न छूटे,

अगली-पिछली भूल

बस बढ़ते जाते।

साथ-साथ

चलते जाते।

क्यों आस करें किसी से

हाथों में हाथ दे

बढ़ते जाते।

जीवन की डगर चल रही,

मंज़िल की ओर बढ़ रही,

न किसी से शिकवा

न शिकायत।

धीरे-धीरे

पग-भर सरक रही,

जीवन की डगर चल रही।

 

भुगतो अब

कल तक कहते थे

तू बोलती नहीं

भाव अपने तोलती नहीं।

अभिव्यक्ति की आज़ादी लो

अपनी बात खुलकर बोल दो।

चुप रहना अपराध है

न सुन किसी की ग़लत बात

न सहना किसी का बेबात घात

सच कहना सीख

गलत को गलत कहना सीख।

सही की सही परख कर,

आवरण हटा

खुलकर जीना सीख।

 

किन्तु

क्यों ऐसा हुआ

ज्यों ही मैं बोली

एक तहलका-सा मचा हुआ।

दूर-दूर तक शोर हुआ।

किसी की पोल खुली।

किसी की ढोल बजी।

किसी के झूठ की बोली लगी।

कभी सन्नाटा छाया

तो कभी सन्नाटा टूटा।

 

भीड़ बढ़ी, भीड़ बढी,

चिल्लाई मुझ पर

बस करो, अब बस करो!

 

पर अब कैसे बस करो।

पर अब क्यों बस करो।

भुगतो अब!!!

 

 

तितलियां

फूल-फूल से पराग चुराती तितलियां

उड़ती-फिरती, मुस्कुराती तितलियां

पंख जोड़ती, पंख खोलतीं रंग सजाती

उड़-उड़ जातीं, हाथ न आतीं तितलियां

   

सूर्य देव तुम कहाँ हो

ओ बादलो गगन से घेरा हटाओ

शीतल पवन तुम दूर भाग जाओ

कोहरे से दृष्टि-भ्रम होने लगा है

सूर्य देव तुम कहाँ हो आ जाओ

तितली बोली

तितली उड़ती चुप-चुप, भंवरा करता भुन-भुन

भंवरे से बोली तितली, ज़रा मेरी बात तो सुन

तू काला, मैं सुंदर, रंग-बिरंगी, सबके मन भाती,

फूल-फूल मैं उड़ती फिरती, तू न सपने बुन।

ज़िन्दगी के सवाल

ज़िन्दगी के सवाल

कभी भी

पहले और आखिरी नहीं होते।

बस सवाल होते हैं

जो एक-के-बाद एक

लौट-लौटकर

आते ही रहते हैं।

कभी उलझते हैं

कभी सुलझते हैं

और कभी-कभी

पूरा जीवन बीत जाता है

सवालों को समझने में ही।

वैसे ही जैसे

कभी-कभी हम

अपनी उलझनों को

सुलझाने के लिए

या अपनी उलझनों से

बचने के लिए

डायरी के पन्ने

काले करने लगते हैं

पहला पृष्ठ खाली छोड़ देते हैं

जो अन्त तक

पहुँचते-पहुँचते

अक्सर फ़ट जाता है।

तब समझ आता है

कि हम तो जीवन-भर

निरर्थक प्रश्नों में

उलझे रहे

न जीवन का आनन्द लिया

और न खुशियों का स्वागत किया।

और इस तरह

आखिरी पृष्ठ भी

बेकार चला जाता है।

 

अब मौन को मुखर कीजिए

बस अब बहुत हो चुका,

अब मौन को मुखर कीजिए

कुछ तो बोलिए

न मुंह बन्द कीजिए।

संकेतों की भाषा

कोई समझता नहीं

बोलकर ही भाव दीजिए।

खामोशियां घुटती हैं कहीं

ज़रा ज़ोर से बोलकर

आवाज़ दीजिए।

जो मन न भाए

उसका

खुलकर विरोध कीजिए।

यह सोचकर

कि बुरा लगेगा किसी को

अपना मन मत उदास कीजिए।

बुरे को बुरा कहकर

स्पष्ट भाव दीजिए,

और यही सुनने की

हिम्मत भी

अपने अन्दर पैदा कीजिए।

चुप्पी को सब समझते हैं कमज़ोरी

चिल्लाकर जवाब दीजिए।

कलम की नोक तीखी कीजिए

शब्दों को आवाज़ कीजिए।

मौन को मुखर कीजिए।

 

लक्ष्य संधान

पीछे लौटना तो नहीं चाहती

किन्तु कुछ लकीरें

रास्ता रोकती हैं।

कुछ हाथों में

कुछ कदमों के नीचे,

कुछ मेरे शुभचिन्तकों की

उकेरी हुई मेरी राहों में

मेरे मन-मस्तिष्क में

आन्दोलन करती हुईं।

हम ज्यों-ज्यों

बड़े होने लगते हैं

अच्छी लगती हैं

लक्ष्य की लकीरें बढ़ती हुईं।

किन्तु ऐसा क्यों

कि ज्यों-ज्यों लक्ष्यों के

दायरे बढ़ने लगे

राहें सिकुड़ने लगीं,

मंज़िल बंटने लगी

और लकीरें और गहराने लगीं।

 

फिर पड़ताल करने निकल पड़ती हूँ

आदत से मज़बूर

देखने की कोशिश करती हूँ पलटकर

जो लक्ष्य मैंने चुने थे

वे कहाँ पड़े हैं

जो अपेक्षाएं मुझसे की गईं थीं

मैं कहाँ तक पार पा सकी उनसे।

हम जीवन में

एक लक्ष्य चुनते हैं

किन्तु अपेक्षाओं की

दीवारें बन जाती हैं

और हम खड़े देखते रह जाते हैं।

-

कुछ लक्ष्य बड़े गहरे चलते हैं जीवन में।

-

अर्जुन ने एक लक्ष्य संधान किया था

चिड़िया की आंख का

और दूसरा किया था

मछली की आंख का

और इन लक्ष्यों से कितने लक्ष्य निकले

जो तीर की तरह

बिखर गये कुरूक्षेत्र में

रक्त-रंजित।

.

क्या हमारे, सबके जीवन में

ऐसा ही होता है?